National Handloom Day ( राष्ट्रीय हथकरघा दिवस )

National Handloom Day 1
Handicraft in Hindi Language – हस्तशिल्प

National Handloom Day राष्ट्रीय हथकरघा दिवस

राष्ट्रीय हथकरघा दिवस (National Handloom Day)को हम 7 August को मानते हैं, ये दिन देश में हथकरघा बुनकरों को सम्मनित करने और लघु व माध्यम वर्ग के हथकरघा उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है.

इसकी शुरुआत साल 2015 में हुई थी, जिसके बाद इसे हर साल 7 August को मनाया जाने लगा है | हथकरघा देश के गौरवशाली सांस्कृतिक विरासत  को दर्शाता है, और देश में लोगों के लिए आजीविका का एक बड़ा स्रोत है.

हथकरघा बुनकरों और सम्बद्ध कामगारों में 70 फीसदी से ज्यादा महिलाएं हैं, ये महिलाएं शशक्तिकरण की कुंजी के रूप में काम करती हैं । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2015 में हथकरघा उद्योग को लेकर जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से 7 अगस्त को राष्ट्रीय हथकरघा दिवस मनाने के ऐलान किया था । आपको बता दें , 7 अगस्त 1905 को ही देश में स्वदेशी आन्दोलन की शुरुआत हुई थी। आन्दोलन का उद्देश्य घरेलू उत्पादों को पुनर्जीवित करना था । इसी दिन कोलकाता के Town Hall में एक महान जनसभा में स्वदेशी आन्दोलन की औपचारिक रूप से शुरुआत की गई थी। भारत सरकार इसी की याद में हर साल 7 August को राष्ट्रीय हथकरघा दिवस मनाती है । भारत में हथकरघा समय के साथ सबसे महत्वपूर्ण कुटीर व्यापार के रूप में उभरा है हथकरघा बुनकर कपास, रेशम और ऊन के समान शुद्ध रेशो का इस्तेमाल कर माल तैयार करतें हैं, राष्ट्रीय हथकरघा दिवस आयोजित करने का लक्ष्य भारत के सामाजिक आर्थिक सुधार में हथकरघा के योग्यगा को स्पष्ट करना है। ये दिन हथकरघा समुदाय को सम्मानित और और भारत के सामाजिक विकास में उनके योग्यता को स्वीकार करने के लिए मनाया जाता है

अन्य महत्वपूर्ण जानकारी –

  • 7 अगस्त को राष्ट्रीय हथकरघा दिवस के रूप में इस लिए चुना गया क्योकि ब्रिटिश सरकार द्वारा जारी किये जा रहे ‘ बंगाल विभाजन ” का विरोध करने के लिए 1905 में इसी दिन कोलकत्ता टाउन हॉल में आरम्भ किया गया था |


  • 7 अगस्त, 2015 को चेन्नई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था  “पहले राष्ट्रीय हथकरघा दिवस का उद्घाटन” किया था | 


  • हथकरघा जनगणना 2009 – 10 के मुताबिक देश में कुल 23.77 लाख हथकरघा; जिनका लगभग 70 % हथकरघा उत्तर-पूर्व में है | 


  • दुनिया में हैंडलूम उत्पादन में लगभग 85% हिस्सेदारी भारत की है | 


  • असम का “सुआलकुंची” गॉव “मैनचेस्टर ऑफ़ द इस्ट से प्रसिद्ध है 


  • दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा रेशम उत्पादक देश भारत है 


  • दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा कपास उत्पादक देश है भारत | 


  • सूती धागा उद्योग में 25% भारत की हिस्सेदारी है | 

 National Handloom Day ( Amazon Karigar Quiz ) –

Amazon ने राष्ट्रीय हथकरघा दिवस ( National Handloom Day) Quiz शुरू किया है, जिसमें भाग लेने वाला व्यक्ति 25000 Rs की धनराशि जीत सकता है | इस खेल से भी लोगों तक राष्ट्रीय हथकरघा दिवस की जानकारी पहुँची और कुछ लोग Prize भी पाएंगे |


Leave a Comment